कैसे ये मछुआरा बना रातो रात अमीर,बॉक्स में इसे जो मिला सुनकर आपके भी मुँह में पानी आजाएगा,

और कितनी होती है पुजारियों की सैलरी, कितना कमाते है ये लोग

और अगर आपको खुद से थोड़ा भी प्यार है तो नकली अंडे बनाने की इस तकनीक को बिना देखे वीडियो मत हटाइयेगा क्योंकि ये आपकी और आपके छोटे बच्चो की जान बचा सकता है,

ऐसे ही और अमेजिंग फैक्ट्स जानने के लिये बने रहिये हमारे साथ वीडियो के अंत तक।।

6- दोस्तो इस मछुआरे की किस्मत अगर देख ली न आपने तो सच बता रहा हु जलन होजाएगी आपको इससे। दोस्तो Indonesia  का ये मछुआरा  मछली मारकर अपना घर किसी तरह से चलाता था और एक दिन परेशानियों से तंग आ कर वो मछुआरा  रोज़ मर्रा की तरह काम करते हुए एक दिन ऐसा आया जिसने उस मछुआरे की किस्मत बदल डाली, दरसल दोस्तो रोज़ की तरह उसने मछली मारने के लिए जाल फेका पर उसमे मछली की जगह एक बॉक्स फस गया, उसने जब इस बॉक्स को ऊपर चढ़ा के खोला तो उसमें उसे एप्पल के लोगो वाले कई अलग अलग बॉक्स मिले। पहले तो उसने सोचा ये सब खाली होंगे लेकिन जब उसने बॉक्स खोला तो उसके होश उड़ गए। दोस्तो उसमे बिल्कुल नए एप्पल के iphone और उसके IPAD पड़े हुए थे और वो भी एक दो नही बल्कि हज़ारो की तादात में था जिसकी कीमत करोड़ों में थी और आप भी जानते है एक IPHONE 1 से डेढ़ लाख का होता है तो इसी से अंदाज़ा लगा लीजिये की उस बड़े से बॉक्स की कीमत होगी और उस बॉक्स की पैकिंग भी काफी अच्छे तरीके से की गई थी इसके अलावा जिसे नही पता उन्हें बता दु की एप्पल के सभी मोबाइल वाटर प्रूफ होते है उन्हें पानी से कोई असर नही होता। ये मिलने के बाद एक झटके में ही वो मछुआरा आम इंसान से करोड़पति बन गया। इस घटना के बाद कई लोगो ने इसे एप्पल के advertisement का जरिया भी बोला क्योंकि वो दिखाना चाहते थे कि उनका फ़ोन कितना वाटरप्रूफ है।

https://youtu.be/pWbiF9P9JP0 (1:56 Apple box Wala)

5- दोस्तो ये सुनने में आपको थोड़ा अटपटा ज़रूर लगेगा लेकिन आपको बता दु ये मंदिर में जितने भी पुजारी होते है ये हमारी और आप की तरह जॉब ही कर रहे होते है, शायद आपको न पता हो लेकिन इनका भी प्रमोशन होता है औऱ इनका भी इंटरव्यू होता है साथ ही इन्हें वेतन भी मिलता है लेकिन ऐसा समझने की भूल बिल्कुल मत कीजियेगा की पंडित बनना आसान होता है इसके लिए भी वैकेंसी निकलती है और बात करे इनको मिलने वाली तनख्वाह की तो पहली बात ये की हर राज्य में पंडित की तनख्वाह अलग अलग होती है और ज़रा आप अपनी तरफ से भी सोचिये की आखिर ये लोग कितना कमाते होंगे,, सोच लिए तो चलिए अब मैं आपको बता देता हूं कि ये पंडित पुजारी महीने का कितना कमाते है। तो सब कुछ मिलाकर यानी इन्शुरन्स, महंगाई बत्ता, और house अलायन्स मिलाकर इन्हें मूल रूप से 21000 रुपय की तनख्वाह मिल जाती है जो कि बहोत है और हर दिन या हर घण्टे पंडित गुरुदक्षिड़ा से घिरे ही रहते है क्योंकि हम तो जॉब करते है लेकिन पंडितो का एक मान्य स्थान भी होता है और उनकी इज़्ज़त भी होती है। तो दोस्तो आपने इनकी सैलरी कितनी सोची थी कमेन्ट में बताना बिल्कुल मत भूलियेगा।।

4- दोस्तो रोज़ अंडा खाना अच्छी बात है लेकिन असली अंडे खाना नकली नही और आज नकली अंडे बनाने का तरीका देखने के बाद आपके पैरों तले जमीन खिसक जाएगी और आप भी सोचेंगे कि अभी तक आप अंडा नही ज़हर खा रहे थे। दोस्तो नकली अंडे बनाने के लिये सबसे पहले ये उसका सफेद पार्ट तैयार करते है यानी कि egg शेल और ये जिम करने वालो का बड़ा पसंदीदा होता है तो इसे तैयार करने के लिये ये लोग सबसे पहले हल्के गर्म पानी में पर्याप्त मात्रा में सोडियम एल्गिनाइट मिलाते है अब इसके बाद जिलेटिन, बेंजोइक एसिड, एल्यूम के साथ और भी दूसरी चीज़ें लेकर के अंडे का सफेद हिस्सा तैयार किया जाता है।आप मानेंगे नही ये बिल्कुल असली अंडे जैसा ही दिखता है, अब पिला पार्ट तयार करने के लिए भी सेम काम किया जाता है और थोड़ा पीला रंग मिला दिया जाता है इतना होजाने के बाद अब अंडे की परत तैयार करने के लिये कैल्शियम क्लोराइड का इस्तेमाल किया जाता है और उसमें अंडे का सफेद और पीला पार्ट मिलाकर उसे तैयार कर दिया जाता है, शौक की बात अब बताता हूं आपको, दरसल ये नकली अंडे शरीर में खून को हर कोने तक जाने नही देती और वही से लेती है जन्म ऐसी बीमारी जो इंसान की जान लेकर ही छोड़ती है और संतुष्टि के लिए आप किसी भी केमिस्ट से पूछ सकते है ये फिटकिरी और कैल्शियम क्लोराइड जैसी चीज़े अंदरूनी हिस्सो के लिये कितनी खतरनाक है।।

3-दोस्तों आज के समय मे दुनिया मे जितने भी inventions किये जा रहे है उसमें दुनिया को अपग्रेड करने के साथ साथ pollution का भी ध्यान रखा जा रहा हैं और कही कही तो pollution की ही  मदद से inventions हो रहे ह और आज  हम बात करेंगे एसे ही एक व्यक्ति के बारे में जिन्होंने एयर पॉल्युशन का इस्तेमाल करके कार्बन टाइल्स बना डाला। जी हा आपने बिल्कुल सही सुना,  इनका नाम Tejas sidnal है। दरसल आप के आसपास की एयर में जो कार्बन मौजूद है उसे tejas कैप्चर कर के काफी बेहतरीन टाइल्स बनाते है। इस किस्म के टाइल्स को बनाने के लिए खासकर  teen चीज़ों की ज़रूरत पड़ती है। पहली marble chips दूसरा मार्बल powder और तीसरा carbon, तो कैसा लगी आपको tejas की ये नई टेकनीक, कमेंट में ज़रूर बताइयेगा।।

2-भारत मे क्रिकेट एक खेल ही नहीं बल्कि इमोशन है, भले ही हमारा अंतराष्ट्रीय खेल हॉकी है लेकिन क्रिकेट भारत के लोगो का सबसे फेवरेट खेल है जिसे खेलने के लिए लोग कुछ भी कर सकते है।जम्मू कश्मीर का रहने वाला amir हुसैन शायद दुनिया का एक लौता ऐसा शक़्स है जो क्रिकेट अपने पैरों से खेलता है और वो भी एकदम बेहतरीन। दरसल आठ साल की उम्र में आमिर ने अपने दोनों हाथ खो दिए थे पर क्रिकेट खेलने के जुनून ने इन्हें पीछे नही हटने दिया और आज ये अपने टीम के कप्तान भी है। दोस्तो पैर से खेलते खेलते इन्होंने खुद को इतना ट्रेन कर लिया कि अब आमिर पैरों से बोलिंग भी करलेते है और वो भी काफी अच्छी। साथ ही पैरों की उंगलियों से खाना भी खा लेते है।

दोस्तो सलाम है आमिर के इस जस्बे को।

1-दोस्तों कश्मीर की एक ऐसी झील है.. जो कुछ सालो पहले बहुत ही बड़ी टूरिस्ट प्लेस मानी जाती थी.. लेकिन अब यह पूरी तरीके से कीचड़ में तब्दील हो चुकी है.. हम बात कर रहे है.. Anchar झील की.. यहां के लोग मछली पकड़ कर अपने जीवन को चलाते थे.. लेकिन दलदल में मछली पकड़ना भी आसान काम नहीं है.. जिसके चलते उन्होंने काफी यूनीक तरीका बनाया है.. यह अपनी नाव में लकड़ी और कंबल लेकर चलते हैं.. और फिर अच्छी जगह पहुंच जाने के बाद.. एक छोटी सी झोपड़ी बना देते हैं.. और फिर इंतजार करते हैं.. दरअसल पानी के नीचे मछलियां इन झोपड़ियों के परछाई की तरफ आकर्षित होती है.. और इन झोपड़ियों के नीचे मछुआरे द्वारा जाल बिछाया होता है.. और जैसे ही मछली यहां आती है.. तो वह जाल में पकड़ी जाती है.. इस तकनीक को शैडो फिशिंग कहा जाता है.. वाकई में इस तकनीक को जिसने बनाया होगा वह आदमी बहुत ही होशियार होगा.. ( https://youtu.be/t7xvsCQJnNQ?t=27  )

तो दोस्तो आज के लिए बस इतना ही,अगर वीडियो अच्छी लगी हो तो लाइक ज़रूर करिएगा और अपने दोस्तो म शेयर करना बिल्कुल मत भूलियेगा।

ऐसे ही और वीडिओज़ के लिए फॉलो करिए हमारे पेज alpha facts hindi को।

धन्यवाद।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *